दिल्ली

Delhi Metro: सात मंजिला ऊंचा होगा दिल्ली मेट्रो का ये नया स्टेशन, प्लेटफार्म के ऊपर होगा प्लेटफार्म

दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) अपने चौथे चरण के विस्तार के साथ नई ऊंचाइयों को छूने के लिए पूरी तरह से तैयार है। निर्माणाधीन जनकपुरी पश्चिम-आरके आश्रम मार्ग कॉरिडोर पर हैदरपुर बादली स्टेशन न केवल दिल्ली मेट्रो का, बल्कि दुनिया के सबसे ऊंचे स्टेशनों में से एक होने वाला है।

चौक हो या चौराहा, गलि हो या गलियारा, सड़क हो या फ्लाइओवर, आपकी जहां-जहां नजर जाएगी, दिल्ली में आपको सिर्फ दिल्ली मेट्रो ही नजर आएगी। यानी देश की धड़कन दिल्ली और दिल्ली की लाइफ लाइन दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) आए दिन नई कामयाबी हासिल कर रही हैं। दिल्ली मेट्रो दिन दो गूनी और रात चौ गूनी रफ्तार के साथ देश की राजधानी दिल्ली में अपना जाल बिछा रही है। हाल ही में दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) ऐसा किर्तिमान हासिल करने जा रही है। जिसको अब तक सिर्फ अमेरिका ही कर पाया है।

Phase 4 में Delhi Metro को मिलेगा अपना सबसे ऊंचा स्टेशन

दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) अपने चौथे चरण के विस्तार के साथ नई ऊंचाइयों को छूने के लिए पूरी तरह से तैयार है। निर्माणाधीन जनकपुरी पश्चिम-आरके आश्रम मार्ग कॉरिडोर पर हैदरपुर बादली स्टेशन न केवल दिल्ली मेट्रो का, बल्कि दुनिया के सबसे ऊंचे स्टेशनों में से एक होने वाला है। जोकि इस सेक्शन में दिल्ली मेट्रो का अब तक का सबसे ऊंचा मेट्रो स्टेशन होगा। हैदरपुर बादली मोर मेट्रो स्टेशन मौजूदा येलो लाइन और मैजेंटा लाइन एक्सटेंशन के आगामी स्टेशन के बीच एक इंटरचेंज प्वाइंट भी बनने जा रहा है।

सात मंजिला ऊंचा होगा हैदरपुर बादली मेट्रो स्टेशन

डीएमआरसी के प्रमुख कार्यकारी निदेशक अनुज दयाल के मुताबिक प्लेटफार्म स्तर पर
24.25 मीटर और ट्रैक स्तर पर 23.2 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हैदरपुर बादली स्टेशन दुनिया के सबसे ऊंचे मेट्रो स्टेशनों में से एक होगा। जोकि सात मंजिला इमारत जितनी ऊंची होगी। अनुज दयाल के मुताबिक वर्तमान में पिलर्स का निर्माण हो चुका है और अब उसपर वायडक्ट्स लगाने के लिए पियर कैप लगाने का काम चल रहा है।

प्लेटफार्म के ऊपर होगा प्लेटफार्म, Delhi Metro ने पूरा किया काम

आपको बता दें कि हैदरपुर बादली मेट्रो स्टेशन (Haiderpur badli mor) पर इंटरचेंज सुविधा के लिए डीएमआरसी ने दिसंबर 2019 में काम शुरू कर दिया था। वहीं, दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) के तीसरे चरण में ही येलो लाइन के विस्तार के समय इस स्टेशन पर इंटरचेंज स्टेशन के रूप में बना लिया गया था। जहां येलो लाइन के हैदपुर बादली स्टेशन प्लेटफॉर्म का रूफ स्लैब मैजेंटा लाइन के लिए प्लेटफॉर्म के रूप में कार्य करेगा।

ये हैं दिल्ली मेट्रो के सबसे ऊंचे मेट्रो स्टेशन

बता दें, अब तक, पिंक लाइन (मजलिस पार्क-शिव विहार) पर स्थिति मयूर विहार फेज- I मेट्रो स्टेशन 22 मीटर की ऊंचाई पर स्थित प्लेटफॉर्म के साथ दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) के सबसे ऊंचे स्टेशन है। जिसे पिंक लाइन वायडक्ट का निर्माण ब्लू लाइन के ऊपर किया गया है, जिससे यह काफी ऊंचाई पर है। मयूर विहार फेज- I से पहले पिंक लाइन के कड़कड़डूमा ने 20 मीटर की ऊंचाई वाले प्लेटफॉर्म के साथ सबसे ऊंचा स्टेशन होने का रिकॉर्ड हासिल किया था। हालांकि, वास्तव में पिंक लाइन दिल्ली मेट्रो नेटवर्क के सबसे ऊंचे बिंदु का रिकॉर्ड रखती है जोकि धौला कुआं में 23.6 मीटर हाइट के साथ एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन के ऊपर से गुजरती है।

दुनिया का सबसे ऊंचा मेट्रो स्टेशन

इसके अलावा, किसी भी रैपिड ट्रांजिट सिस्टम में न्यू यॉर्क सिटी सबवे का स्मिथ-नौवां स्ट्रीट्स स्टेशन दुनिया का सबसे ऊंचा स्टेशन है जिसकी ऊंचाई ग्राउंड लेवल से करीब 26.7 मीटर है। वहीं, जनकपुरी पश्चिम-आरके आश्रम कॉरिडोर के खंभों की औसत ऊंचाई 10 मीटर है, लेकिन यह मधुबन चौक पर करीब 20 मीटर तक पहुंच जाएगी, जहां कॉरिडोर रेड लाइन को पार करते हुए हैदरपुर बादली में 25 मीटर की ऊंचाई पर येलो लाइन को पर करेगा।

Phase 4 मैजंटा लाइन पर बनेंगे 6 इंटरचेंज स्टेशन

वहीं, हैदरपुर बादली के अलावा जनकपुरी पश्चिम-आरके आश्रम मार्ग कॉरिडोर में पांच अन्य इंटरचेंज स्टेशन होंगे जोकि पीरा गढ़ी (ग्रीन लाइन के साथ), मधुबन चौक (रेड लाइन के साथ)। मजलिस पार्क (पिंक लाइन के साथ), आजादपुर (येलो और पिंक लाइन के साथ), और आरके आश्रम मार्ग (ब्लू लाइन के साथ) बनाए जायेंगे।

मेट्रो के आगे कूदी महिला, सीआईएसएफ के जवानों ने बचाइए जान, देखें वीडियो

22 स्टेशन, 28.9 किलोमीटर लम्बाई

जनकपुरी वेस्ट-आरके आश्रम मार्ग कॉरिडोर, जो बॉटनिकल गार्डन से जनकपुरी वेस्ट मैजेंटा लाइन का विस्तार करता है। जनकपुरी वेस्ट-आरके आश्रम मार्ग कॉरिडोर में कुल 22 स्टेशन होंगे। किसकी कुल लंबाई करीब 28.9 किलोमीटर होगी। और इस कॉरिडोर का निर्माण जून 2024 तक करने का लक्ष्य रखा गया था। हालांकि, कोरोना काल की वजह से इसमें देरी आने की स्मभावना है।

Electric Auto In Delhi: CM Kejriwal ने दिल्ली की सड़कों पर इलेक्ट्रिक ऑटो को दिखाई हरी झंडी

वहीं, डीएमआरसी के लिए यह इंजीनियरिंग करतब चुनौतीपूर्ण था क्योंकि नेटवर्क के सबसे व्यस्त कॉरिडोर यानि येलो लाइन पर संचालन को प्रभावित किए बिना पिलर्स का निर्माण और स्पैन की लॉन्चिंग करना एक चुनौतीपूर्ण कार्य था। डीएमआरसी ने इसके लिए स्टेशन पर चौबीसों घंटे जांच के लिए सीसीटीवी कैमरे और अन्य निगरानी उपकरण लगाए और 24 घंटे निगरानी के लिए इंजीनियरों की एक टीम भी तैनात की।

Celebrations on Wheels in Noida Metro: मेट्रो में ऐसे सेलिब्रेट करें अपना बर्थडे, NMRC दे रही है ऑफर, जल्द शुरू होगी बुकिंग

और पढ़े

संबधित खबरें

Back to top button