लाइफस्टाइल

Christmas Day 2020: क्यों मनाते है क्रिसमस? जानें इसका महत्व और इतिहास

ईसाई धर्म में क्रिसमस (Christmas Day) का महत्व काफी अधिक है। हर वर्ष 25 दिसंबर को क्रिसमस का त्यौहार बड़े जोर शोर से मनाया जाता है। खास तौर पर ईसाई धर्म के लोग क्रिसमस को बड़े धूम-धाम से मनाते है। इस दिन लोगों में काफी उत्साह और एक नई उमंग होती है। यह दिन एक खुशी का दिन होता है क्योंकि इस दिन यानी 25 दिसंबर को यीशु का जन्म हुआ था। इन्हीं की शिक्षा और पाठ ने ईसाई धर्म के निव कि स्थापना की। इनकी शिक्षा ही ईसाई धर्म का आधार है। वर्तमान में क्रिसमस को आज हर कोई बड़ी उमंग के साथ मनाता है। आज हर धर्म के लोग क्रिसमस को मानते हैं। हालांकि, इस बार का क्रिसमस (Christmas Day 2020) बड़ा ही अनोखा होने वाला है। क्योंकि कोरोना वायरस (Covid-19) के कारण इस बार इसे विशेष सावधानियों के साथ मनाया जाएगा।

क्रिसमस का एक अलग ही महत्व है। ऐसे में आइए जानते हैं क्रिसमस का त्यौहार क्यों सेलिब्रेट किया जाता है और इसका क्या महत्व है –

जानें क्या है Christmas Day का महत्व-

क्रिसमस के त्यौहार का महत्व काफी ही अधिक है। माना जाता है कि कुछ दशकों पहले इस त्यौहार को केवल विदेशों में है सेलिब्रेट किया जाता था। लेकिन इसकी लोकप्रियता इतनी तेज़ी से बढ़ी की क्रिसमस को पूरी दुनिया के साथ साथ भारत में भी मनाया जाने लगा। भारत में बहुत से लोग है जो क्रिसमस को बड़े धूम-धाम से मनाते हैं। पूरे विश्व में गेर-ईसाई और ईसाई धर्म के लोगों द्वारा क्रिसमस को बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है। विश्व भर के देशों में इस खास त्यौहार को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। यह दिन ईसाई धर्म के लोगों के लिए बेहद ही खाश होता है। इसी दिन यानी 25 दिसंबर को भगवान यीशु का जन्म हुआ था।

क्या है Christmas का इतिहास-

पौराणिक कथाओं के मुताबिक भगवान यीशु का जन्म इसी दिन यानी 25 दिसंबर को हुआ था। इनका जन्म मरियम के वहां हुआ था। प्राचीन कथा के अनुसार कहा जाता है कि मरियम को एक सपना आया था। इस सपने में उन्हें पुत्र यीशु को जन्म देने के बारे में बताया गया था। जिसके बाद ही मरियम गर्भवती हुई। ऐसे में मरियम को बेथलहम में रहना पड़ा। एक वक्त जब बहुत रात हो गई तो उन्होंने बेथलहम में रहने को सोचा।

WhatsApp में मिलने वाला है ये नया फीचर, जानकर उड़ जाएंगे होश

ऐसे में उन्हें वहां रुकने के लिए कोई खास जगह नहीं दिखी। इस दौरान उन्हें एक जगह दिखाई दी जहां लोग पशुपालन करते थे। ऐसे में वो वहीं जाकर रुकने का फैसला किया। ऐसे में ठीक अगले दिन मरियम ने प्रभु यीशु को जन्म दिया था। भगवान यीशु ने है ईसाई धर्म की स्थापना की थी। बस यही कारण है कि इस दिन को पूरे विश्व में खास तौर पर क्रिसमस (Christmas Day 2020) रूप में मनाया जाता है।

4.99 लाख में लॉन्च हुई Nissan Magnite कार के फीचर यहां देखें

close
Janta Connect

Subscribe Us To Get News Updates!

We’ll never send you spam or share your email address.
Find out more in our Privacy Policy.

और पढ़े

संबधित खबरें

Back to top button